Monday, 30 June 2014

Recovery of dues - need to update laws

You might have watched Amitabh Bachchan ad on tv saying that Binani Cement is 'Sadiyon ke liye' or something like that. And of course in such a case the ad-budget is not in thousands or lacs.

Binani Cement had been asked by government of Rajasthan to pay sales tax dues amounting to Rs 154 crore odd for the period 2008 - 2011.

In 2013 state government allowed the company to pay 50% amount immediately & rest in 10 monthly instalments.

The company wanted to pay tax dues in 36 instalments & approached High Court.

The High Court ordered payment of Rs 50 crore immediately & rest in 12 instalments.

Company approached Supreme Court against order of High Court for relaxation. Learned judge of Supreme Court asked the company:

'How much do you pay for one appearance of Amitabh Bachchan for your advertisement? How much you spend on ads? It must have been thousands of crores. It is only the State which is not paid.'

'What else would they do if not to take coercive action? You must pay your taxes. I don't know why we have to pamper industries which do not pay taxes.'

How would the government run the country if the industries do not pay taxes? Industries are not there only for creating employment but they are also liable to pay taxes.'

Company was asked to go back to High Court where the case is fixed for 04-07-2014.

As per website of the company, Binani group has presence in cement, zinc, energy, infra & IT. Their bankers are PNB, OBC, PSB & Syndicate Bank. Some figures from the cement balance sheet are as under:
Audited figures as on                             31-03-13       31-03-12
                                                                     (in lakhs of rupees)
Revenue from Operations (Gross)      255,553.09    233,211.14
Profit/(Loss) for the period                   11,982.48        4,839.79

Here we are discussing neither merits of sales tax case nor about management of the group & their policies. The entire episode has led to ponder over following issues which need attention of law makers.

* State, central governments, banks are helpless & weak to recover their dues. They also have to go to already overburdened courts where the cases linger on for years. Corporates do eventually get the benefit of deferred repayments, instalments or some type of waiver. In some cases they even shut the units down blaming the banks or governments for closure. Question here is that do the recovery laws need more teeth?

* Despite defaults to public sector banks, state or central governments the corporates continue their expenditure on ads to boost their brand equity. Can't the use of brand name be forfeited till recovery?

* Despite defaults in payment of their dues by the corporates, celebrities endorse their products & make money which is not ethical. Though may not be illegal. Can't there be law barring endorsement of a product of a defaulter?

* Should not the heads of such defaulter companies be debarred from contesting all types of local, state or central level public elections?

This grey area needs to be made transparent.

Grey area

Saturday, 28 June 2014

Tuco of good, bad & ugly

The Ugly

It was during 89 - 90 that many video cassette libraries sprang up in our neighbourhood in Delhi. During that period we purchased a VCR & connected it to the TV. For a rental of 15 - 20 rupees per cassette per day from the libraries one could enjoy Hollywood blockbusters at leisure in homes.

It was one of 'masala' Western movies 'The Good, the Bad and the Ugly' which we watched then a couple of times though it was released sometime in 1966. In the film Eli Wallach played a Mexican bandit Tuco Benedicto Pacifico Juan Maria Ramirez along with the good guy Clint Eastwood & bad guy Lee Van Cleef.

Tuco was comical, clever, dangerous & slippery guy inclusive of our Gabbar Singh, Shakaal & Mogambo all in one. His acting stole the thunder from Clint Eastwood & Lee Van Cleef.

The movie had the beautiful shots of deserts & mountains with many twists & turns in the story as all three of them were chasing hidden gold in a cemetery . It was a few minutes short of full three hour show which kept us fully absorbed.

The movie was one of the Dollar Trilogy other two being 'For a Few Dollars More' & 'A Fistful of Dollars' by Italian director Sergio Leone

Another prominent feature of the movie was its marvellous signature tune by Ennio Morricone which I think is still used in Bollywood or tv shows here occasionally. Movie & the soundtrack is of course available on the net. Do find time to watch this movie amigos which is thoroughly enjoyable I am sure .

Eli Wallach starring as Tuco died at the age of 98 on 24 June 14.

RIP Eli Wallach.

Friday, 27 June 2014

On the roads in heat & dust

Temperature is soaring around 38*C but the show must go on. These photos have been shot from inside the car while moving in & around Meerut by Gayatri Wardhan on BlackBerry mobile.

Overloaded ancient Tempo rumbling along. Front cover has been removed to keep it cool

Beat the heat with Kharbooja -muskmelon- of Baghpat variety 

Two wheels & four legs

Drummers in a hurry

Two larger drums + smaller one hanging against the red shirt + Shahnai form the traditional marriage orchestra

Patrolling the highway NH-58, helmets are considered a burden even by cops

Variety of wheels on Delhi Road

Black & white

Men of steel on Delhi Road

Wednesday, 25 June 2014

Names of lizards & bosses

As per news paper reports four scientists from Bangalore under guidance of Varad B. Giri discovered a new species of lizard - a dwarf geckos in Kaas area of Western Ghats. They decided to name the new lizard in the honour of their guide or guru as Cnemapsis Girii. Very nice gesture indeed.

But here in our Regional Office we honour bosses with new but simple names instead. It is customary in our office to award a nick name to incoming new boss. It must be happening in your office as well I presume. This name remains confined to a select group & is spoken in whispers. However this ritual should be taken as a token of love & affection towards boss & therefore must be taken in the right spirit. The nick names are reflective of characteristics of the boss & helps you to understand him. This process adds to better management I am sure.

For example the boss has lost his hair due to excessive use of his brain cells is nick named The Baldy. So you never raise hair-raising question with him & do not dare to gift him hair oil or hair colour.

Our Asstt Regional Manager has been nick named Narad Muni. He has a habit of conveying whatever you said to a third person in a twisted manner & sow seeds of misunderstanding. If you & third person pick up a fight, Narad Muni would be content to the core of his heart. So whenever you are going to meet Narad Muni you must be on alert that your spoken words do not get twisted by him.

Take the case of Deemak -the termite- boss. He eats up your mails, notes & even files! He would therefore know more about the issues than you do. Please therefore be prepared well with your noting & files or else you had it. Such are the uses of nick names.

You see names of lizards, reptiles, birds & animals come in handy for nick-naming the bosses. In school days & more so in college days these were used for naming the teachers. Cobra, chameleon or girgit, scorpion or bichhu were quite popular nick names.

Certain names of characters of Mahabharat & Ramayan suit very well for describing the bosses. Have your pick from Ravan, Kumbhkaran, Kekeyi, Duryodhan, Jarasandh, Kans & so on. Not that every boss is a nasty or vindictive, there are good ones also for whom both Ramayan & Mahabharat are good sources of choosing names.

One of our bosses was called Mogembo. I am not sure about meaning of this word Mogembo but its origin lies in a Bollywood film. It however denotes cruel boss who rarely smiles or laughs or is a pervert. It is rather difficult to please him & if you do succeed, the boss is likely to thump his chest & shout - Mogembo khush hua! If he does that your annual bonus is assured.

Then there was a boss Mr D B Gupta who was renamed as Mr. Dibba which was very apt & convenient. It also described one of his characteristic that he never opened up in a conversation formal or informal. His views remained confined inside a Dibba!

I wish somebody adds a chapter on this type of ritual of nick-naming the boss & its beneficial results on management in the Book of Management.

Big Boss

Sunday, 22 June 2014

रोज़मर्रा के मुखौटे

शहरी ज़िंदगी की रफ़्तार में और शहरी ज़िंदगी की भीड़भाड़ में क़ुदरत से थोड़ा दूर हो जाते हैं । मुझे तो लगता है की हम अपने आप से भी दूर हो जाते हैं । घर में दीवारें दफ़्तर में दीवारें । हरियाली, झील और पर्वतों से दूर । विचारों का दायरा छोटा होने लगता है और मुड़ मुड़ के उन्हीं चेहरों पे घूमता रहता है ।अच्छे लगें या न लगें झेलते रहते हैं । और इन हालात में हम कई तरह के मुखौटे इस्तेमाल करते रहते हैं । किसी मुखौटे के पीछे छुप जाते हैं और कभी नक़ली मूड का मुखौटा पेश कर देते हैं ।

सुबह उठ कर, नहा धो कर तैयार होने तक मान लीजिए की हम नॅारमल हैं । अब आ गए हम नाश्ते के टेबल पर, एक नज़र पेपर पर, दूसरी नाश्ते पर और तीसरी बच्चे पर जिसके नम्बर कम आ रहे हैं । धीरे से नॅारमल चेहरा बदलता है और गम्भीर मुखौटा चेहरे पर आ जाता है जिसमें ज्ञान, रौब और अनुभव भरा है । मुखौटा बच्चे से पढ़ाई न करने के कारण नहीं पूछता उपदेश देता है - अबे नादान बच्चे कम नम्बर ले कर मज़दूरी करेगा क्या ? पढ़ ले मैं कह रहा हूँ पढ़ ले । 

दफ़्तर पहुँच कर देखा की उफ़ बड़ा बाॅस इंस्पेकशन के लिए तैयार बैठा है । नया मुखौटा निकल आया जिसमें - मैं एफीशैंट हूँ + तू राजा मैं रंक + अबे रिपोर्ट ठीक दे देना - के मिलेजुले भाव थे । घंटी बजाई और चपरासी को रौद्र रूप का मुखौटा दिखाया - (अबे तेल देख तेल की धार देख, प्रमोशन का सवाल है ) भाग के पहले पानी ला फिर चाय ला बिना चीनी के, साथ में बिस्किट, रोस्टेड काजू, बदाम और नमकीन ले कर आ । तुरंत । 

साहब विदा हुए लम्बी और गहरी ठंडी साँस भर के मुखौटा उतार दिया । बाॅस की बातों से समझ नहीं आया की प्रमोशन के लिए हाँ करेगा या ना । काम करने का मूड तो आॅफ हो चुका था पर स्टाफ़ के सामने तो ऐसा ठीक नहीं रहता । इसलिए काम करने वाला मुखौटा फिर से पहन लिया और टेबल पर डायरी और दो फ़ाइलें खोल कर रख दीं । पर ध्यान बाॅस की बातों में ही रहा । 

शाम को घर पर कुछ मेहमान आए हुए थे । कुछ ने हाथ मिलाया और कुछ ने पैर छुए । पैर छूने वालों को कई बार मना किया पर न वो माने न हम । फिर से आशीर्वाद मोड के नक़ली मुखौटे को लगा कर आशीर्वाद दे दिए जबकी ध्यान बाॅस की बातों में ही उलझा हुआ था । कुछ गपशप हुई  जिसमें मुस्कराहट भरे मुखौटे से बातचीत होती रही । हो सकता है उन्होंने भी ऐसे ही मुखौटे पहने हों ?

दिन गुज़र गया और रात के अंधेरे में सारे मुखौटे ग़ायब हो गए । 

Wooden Masks, Bhaktapur, Nepal
आप को कौन सा पसंद है ?

Thursday, 19 June 2014


हमारे मोहल्ले में पेंशनर की संख्या लगातार बढ़ रही है । ऐसा लगता है की हिंदुस्तान में सभी लोग पेंशनर होते जा रहे हैं । पिछले दिनों दो और पेंशनर हमारी पंचायत में शामिल हो गए श्री भसीन और श्री गोयल । नियमानुसार दोनों ने तालियों के बीच रैम्प पर चल कर दिखाया मेरा मतलब है की हमारी संस्था को अपना परिचय दिया ।

श्री गोयल छोटे क़द के हैं, मोटा चश्मा पहनते हैं, मोटा सा पेट है और सफ़ारी सूट पहनने के शौक़ीन हैं । सिर के बाल गिनती के बचे हैं जिन्हें बड़े सलीक़े से गंजे सिर पर सज़ाया हुआ है । आवाज भारी है और अंदाज रोबीला है । रोब ज़माने के लिए या बात में वज़न डालने के लिए बात को दो बार बोलते हैं पहले हिंदी में फिर अंग्रेज़ी में । 

श्री गोयल : नमस्कार भाईयों, good afternoon friends ( मीटिंग में सिर्फ़ फ़्रेंड्स थे कोई gf नहीं थी ) । मैं बैंक से पिछले महीने रिटायर हुआ हूँ । बैंक में मैं चीफ़ औडीटर था । I was Chief Auditor in the bank you know.  लगभग बारह साल से ब्रांच औडिट, स्पेशल औडिट और फ्राड वग़ैरा देख रहा था । I was doing special audits & fraud investigations you know. मैं हमेशा अपना काम पक्का रखता था और टाइम से रिपोर्ट देता था । I मेरी रिपोर्ट हमेशा बैंक के चेयरमैन को पेश होती थी और उस पर एक्शन भी लिया जाता था मैंने छह अफ़सर ससपैंड कराए और आठ मेरी रिपोर्ट पर डिसमिस हुए । My report was always put up to the Chairman----

- एक्सक्यूस मी गोयल साब आप को तो रिटायर नहीं करना चाहिए था । बैंकों में तो बहुत फ्राड हो रहे हैं । 
- मेरी फ़ाइल चेयरमैन ने वित्त मंत्री को भेजी थी । You know my file was with FM duly recommended for extension of five years by Chairman.
- ओहो मंत्री भी फ्राड कर गया ?
- जी नहीं । मंत्री जी द्वारा यस होने से पहले चुनाव की घोषणा हो गई । Before FM said yes, unfortunately the general  election was declared you know. 
- तो आपने मिलमिला कर चुनाव पोस्टपोन करा देने थे गोयल साब । 
- भाग्य में जितना लिखा है उतना ही मिलता है जी । God has already drawn the fate lines you know.

अब श्री भसीन की बारी थी । लम्बा क़द, गेहुंआ रंग, सुनहरा चश्मा, गले में सोने की चेन । चेहरे पर हल्की मुस्कान देख कर लग रहा था की बन्दा मस्तराम है और शौक़ीन मिज़ाज हैं । 

श्री भसीन - बात ये है की पहली रिटायरमेंट तो v r s लेने के बाद हुई बैंक से जहाँ मैं मैनेजर था । मेरा फ़ार्मूला था और अब भी है की बाॅस का भी बाॅस होता है । आप बताओ कौन ? याने बाॅस की बीवी । अगर किसी ने सेवा करनी है और मेवा खाना है तो ध्यान रखे मेरी सलाह का मतलब बाॅस के बाॅस का । फिर चाहे आप दफ़्तर से निकल कर 3 से 6 का मैटिनी शो रीगल थेटर में देखो । सूरजकुण्ड के मेले से एक साड़ी ले दो बाॅस के बाॅस को फिर दिल्ली के बाहर ट्रांसफ़र रूक जाएगी । तो दोस्तों बैंक में अपनी तो मज़े में गुज़री । 

फिर एक private नौकरी की दो साल फिर दूसरी नौकरी की तीन महीने । तीसरी नौकरी की तीन साल । और अब हो गया मैं सीनियर सिटीज़न । अब सोचता हूँ की कोई अपना काम शुरू करूँ । 

- भसीन साब आप तो वाक़ई इच्छाधारी हैं जब चाहा नौकरी छोड़ी जब चाहा फिर पकड़ ली । 
- अरे यार ये बताओ की 'भसीन बटर चिकन' कैसा रहेगा ? 
- वाह वाह । आज कोई सैम्पल तो पेश करो जनाब । 
- भसीन साब कोचिंग सेंटर खोलो " बाॅस पटाउ क्लासेस " ।
- भसीन साहब " बाॅस की बीवी पटाउ क्लासें " ठीक रहेगा । 
- भसीन साब क्यूँ न 'भसीन लेडीज़ टेलर' खोल लो ?
- भसीन साब पापड़ वड़ियों का काम ठीक रहेगा । 
- कमबख़्त सारे ही बिगड़े हुए हो । अबे सुधर जाओ वरिष्ठो !

हम किसी से कम नहीं

Tuesday, 17 June 2014

ज़माना क्या कहेगा ?

अब ये ज़रूरी तो नहीं की मुहल्ले में आप का परिचय सब से हो । परिचय के बिना इस मुहल्ले में आपस में नमस्ते करने का रिवाज नहीं है । अमरीकी मोहल्ले बड़े बड़े होते हैं और मकान दूर दूर होते हैं सैर करने के लिए पार्क भी बड़े होते हैं । एक कि.मी. में एक दो शक्लें दिखती हैं । और अगर आप सुबह की वाॅक में किसी से नज़रें चार करते हैं तो उसके जवाब में मुस्कुराहट या हैलो ज़रूर मिलेगी चाहे सामने महिला हो या पुरूष । हमारे मुहल्ले संकरे हैं, गलियाँ पतली हैं, घर जुड़े हुए हैं और एक कि. मी.में दो सौ लोग हैं । और शायद दिल भीड़ देख देख कर तंग हो गया है इसलिए बिना परिचय के नमस्ते करने में लोग कन्नी काटते हैं । और अगर आप पुरूष हैं और सामने से आती हुई अपरिचित महिला को देखकर मुस्कराहट फेंक दी तो ज़माना क्या कहेगा ?

फ़िल्म पेईंग गेस्ट में जब देवानंद ने प्यार से नूतन का आँचल थामा तो जवाब में नूतन ने कहा की 'अह छोड़ दो आँचल ज़माना क्या कहेगा ' । ज़माना क्या कहेगा यही तो झगड़े की जड़ है, समाज के पंगे इसी में ही हैं । हमें बिना आँचल पकड़े ही ये विचार आ जाता है की ज़माना क्या कहेगा । 

" ज़माना क्या कहेगा " का पूरा प्रभाव तब महसूस करेंगे जब आप अपने बेटे या बेटी की शादी की तैयारी करने लगते हैं । हर चीज़ में और हर आईटम में ये प्रभाव शामिल है जैसे की सगाई ऐसी होनी चाहिए वरना ज़माना क्या कहेगा ? शादी का कार्ड शानदार होना चाहिए वरना ज़माना क्या कहेगा ? आप शादी के निमंत्रण बाँट रहे हैं और बाद में याद आता है की भाईसाहब के लिफ़ाफ़े पर " विद फ़ैमिली " तो लिखा ही नहीं बताइए ज़माना क्या कहेगा ? शादी में दुल्हे के बापू ने बढ़िया सा सूट नहीं पहना तो ज़माना क्या कहेगा ? दूल्हे की अम्माँ और भाभियों ने पूरा दिन फैशियल न कराया तो ज़माना क्या कहेगा ? बैंड तो टापोटाप होना चाहिए वरना ज़माना क्या कहेगा ? दुल्हे ने तलवार -चाहे नक़ली ही हो - न पकड़ी हो तो ज़माना क्या कहेगा ? याने इस कमबख़्त जुमले ने जीना दुश्वार कर दिया है । 

अगर आपकी प्रमोशन हो गई है और आप ख़ुशी में अपने दफ़्तर में डाँस करना चाहें तो नहीं कर पाएँगे । अगर थाईलैंड में छुट्टी मनाने का कार्यक्रम रद्द करना पड़ा तो रो नहीं पाएँगे । कारण डाँस और रोने पे ज़माना क्या कहेगा ? आख़िर ये ज़माना है क्या ? मेरे विचार में हम जितने लोगों को अपने बच्चों की शादी में बुलाते हैं वही हमारी दुनिया है या ज़माना है । पर इसी दुनिया में रह कर एक दूसरे की टाँग खींचने में भी तो मज़ा हैं कहने दो ज़माना क्या कहेगा ?

मेरे ख़याल से देवानंद ने िस्थति को पहचाना और नूतन को सही जवाब दिया " इन अदाओं का ज़माना भी है दीवाना, दीवाना क्या कहेगा ? " 
ज़माना दीवाना है कुछ न कुछ तो कहेगा । 

ज़माना क्या कहेगा ?

Friday, 13 June 2014


विजय कुमार घोटाले उर्फ़ विज्जू का मन कभी पढ़ाई लिखाई में नहीं लगा । अक्सर इस बात पर पिताजी से पिटता रहा और माँ से डाँट खाता रहा । ज़्यादातर दोस्तों के साथ खेलना पसंद था । या कभी माँ के कहने पर भैंस को तलैय्या तक ले जाता था । भैंस भी वहाँ डुबकी मारती और विज्जू भी । रोते पीटते बी ए पास कर ली तो अब नौकरी करने का मन नहीं था । बस अपना काम करूँगा सोचता रहता था । क्या काम करेगा ये तो पता नहीं था । गाँव शहर से बारह किमी दूर था । काम ढूँढने और शहर जाने के लिए फटफटिया भी चाहिए थी और पिताजी पैसे देने को तैयार नहीं थे ।

एक दिन गाँव में बैंक की शाखा खुल गई और पूरा गाँव उद्घाटन के लड्डू खाने के लिए उमड़ पड़ा । विजय भी अपने दोस्त लछमन दास घपले उर्फ़ लच्छू के साथ पहुँच गया । जब रीजनल मैनेजर ने भाषण में कहा की बैंक हर तरह का लोन देने के लिए तैयार है चाहे गाय भैंस हो या दुकान या फ़ैक्टरी विज्जू  के कान खड़े हो गए । उसने लच्छू को कुहनी मारी 'यो क्या कहरा है' । 

उस रात 11 बजे तक विज्जू और लच्छू बात करते रहे की बैंक से कैसे पैसा लिया जाए । अगले दिन धुला हुआ कुरता पजामा पहन कर विज्जू मैनेजर साब से मिला । 
- मैनेजर साहेब लोन दे दो ।
- क्या काम करोगे लोन ले कर ?
- अरे साब कुछियो कर लेंगे । 
- क्या मतलब ? ऐसे थोड़े ही होता है । किसी काम के लिए ही तो लोन होगा या वैसे ही तिजोरी से नोट निकाल कर पकड़ा देंगे ? 
  और फ़िलहाल तो नया ओफिस खुला है अभी तो आप 10-12 खाते खुलवाओ फिर अगले महीने देखते हैं । 

विज्जू को कुछ बुरा सा लगा की भाषण में कमबख्त कुछ बोलते हैं करते कुछ ओर हैं । पर और कोई काम नहीं था और ये भी आशा थी की अगले महीने कुछ बात बन सकती है ये सोचकर वह खाते खुलाने में लग गया । 40 खाते खुलवा दिए और चुपचाप फ़ार्म भरने के दो सौ रूपए भी कमा लिए । मैनेजर साहब को आश्वासन दिया की और 60 खाते दस दिन में खुल जाएँगे । मैनेजर ख़ुश हुआ । धीरे धीरे विज्जू को बैंक के तौर तरीक़े समझ में आने लगे । सारे स्टाफ़ से मेल जोल बढ़ गया ।  बीच बीच में विज्जू लोन के बारे में भी पूछता रहा । 

कभी कभी मैनेजर साब को गाँव में घुमाने के लिए या शनिवार को उन्हें शहर छोड़ने के लिए किसी की मोटर साइकिल का इंतज़ाम कर देता था । साथ में कभी खेत के ताज़े मटर या मूली या गन्ने पैक कर के साहब के लिए ले आता था । अच्छी सेवा कर रहा था । जो सेवा करेगा वही न मेवा खाएगा क्यूँ ?

अब ब्रांच का लोन बजट आ गया और विज्जू की लॉटरी खुल गई । गाय भैंस की लोन फ़ाइल तैयार करने का रेट दो सौ, ट्रेक्टर की लोन फ़ाईल के पाँच सौ कर दिया । मैनेजर और लोन अफ़सर का काम कुछ हल्का हुआ साथ में कुछ धन प्राप्ति भी हुई । लोन लेने वाले को कुछ सुविधा हुई और विज्जू के चेहरे पर लाली आने लग गई ।

कुछ समय बाद पता लगा की तीन किमी दूर किलारी गाँव में एक नया बैंक खुल रहा है । विज्जू ने उससे पहले वहाँ अपनी ब्रांच खोल दी और लच्छू को इंचार्ज नियुक्त कर दिया । अब विज्जू विजय भाई और लच्छू लछमन जी हो गए और उनका कुर्ता पजामा इस्तरी होने लग गया । दोनों ने दिवाली बाँटनी भी शुरू कर दी । दोनों ने पाँच पाँच लाख के होम लोन की भी दरख्वासत लगा दी । होने ही थे और हो भी गए । अब उन्हें मैनेजर या लोन अफ़सर की ट्रांसफ़र से फ़र्क़ नहीं पड़ता था और ये भी समझ आ गया था की बैंक को काग़ज़ों से बड़ा प्यार है । 

एक साल बाद दोनों ने मकान बेच दिए और पैसे खीसों में भर लिए । बैंक की किश्तें जारी रखीं ताकी बैंक नाराज़ न हो । और भी तो काम कराने हैं बैंक से ! जमा हुए पैसों में से इंडस्ट्रीयल एरिया में ज़मीन ली और 25 लाख के लोन के लिए दरख्वासत दी । नीचे से ऊपर सेवा की और ऊपर से नीचे फ़ाईल चलवा दी । चल पड़ा काम और दो सीज़न अच्छे निकले पिछले होम लोन बंद करा दिए । नई गाड़ीयां भी आ गई दोनों के पास । 

विज्जू और लच्छू ने सोचा की इन 6-7 सालों में जो कुछ सीखा है उसके आधार पर तो कुछ और बड़ा करना चाहिए । काग़ज़ों का ही तो खेल है सारा । पैन हो या आईटीआर या ज़मीन के काग़ज़ सभी कुछ तो बनवाया जा सकता है । इस बार पाँच करोड़ के लोन की तैयारी शुरू हो गई । वक़ील, आरकीटेक्ट, सीए और बैंक अधिकारियों के लिए पर्स का मुँह खोल दिया । काग़ज़ों की कमज़ोरियों को दबाया और कुछ अच्छी चीज़ों को और अच्छा कर के उजागर किया । डिनर और कोकटेल की बहार आ गई और तीन महीने की मशक्कत के बाद पाँच करोड़ की स्वीकृति मिल गई । 

अब चूँकि पहले कभी इतनी बड़ी यूनिट विजय कुमार घोटाले और लछमन दास घपले ने चलाई नहीं थी इसलिए लड़खड़ाने लगी । बैंक से नोटिस पे नोटिस फ़ोन पे फ़ोन आने लगे । सपना ध्वस्त होता नज़र आ रहा था । विज्जू ने लच्छू को फैकट्री सौंपी और पुराने बैंकर की तलाश की । फिर एक बार पटाउ कार्यक्रम चला और पुराने बैंकर ने नया सैंक्शन दे दिया वो भी सात करोड़ का । पाँच करोड़ के बेकार लोन में जान आ गई और सात करोड़ के ताज़ा लोन में बदल गया । 

मिलते हैं ब्रेक के बाद । 

गई भैंस पानी में

Thursday, 12 June 2014

पेंशनर और गपशप

अक्सर पेंशनर से एक सवाल पूछ लिया जाता है कि क्या कर रहे हो आजकल ? इसके जवाब में कई तरह के जवाब मैंने तैयार कर रक्खें हैं जिन्हें मौक़े की नज़ाकत देख कर पेश कर देता हूँ :
- कुछ नहीं ।
- मज़े हैं न दफ़्तर की चिंता न इतवार का इंतज़ार । 
- देखो सर तुम बिज़ी रहते हो मैं आराम करता हूँ, आप अपना काम करते हो और मैं अपना काम करता हूँ ! वग़ैरा । 

पर दोस्तों के बीच चलता है । कभी कभी जब हमारे जैसे आराम करने वालों की महफ़िल जमती है तो दूसरे पेग के बाद फुलझड़ियाँ शुरू होती हैं । हमारे गुप्ता जी को रिटायर हुए तीन साल हो चुके हैं । सर पर थोड़े से बाल बचे हैं जो तेल लगा कर बाँए कान से दाँए कान तक चिपका रक्खें हैं । उसी तरह से अभी भी गुप्ता जी दफ़्तर से चिपके हुए हैं । खिन्न हो कर कई बार बोल पड़ते हैं :

- यार 10 से 5 का दफ़्तर ही ठीक था । तुम्हें तो पता है मैं आडीटर रहा हूँ । ऐसी ऐसी रिपोर्ट दी हैं की पूरी ब्रांच ससपेंड हो गई यहाँ तक की टोप मैनेजमेंट की कुर्सियाँ हिल गईं । और आजकल आडिट बिलकुल डाइल्यूट हो गया है । भैया बैंक डूबेंगे अब तो भगवान ही बचाएँगे । 

भसीन साहब भी पुराने खुर्रांट हैं बोले:
- अरे यार अपना पेग ज़रा डाइल्यूट कर ले भाभी से बचना है या नहीं । बैंक बचे हुए हैं कहीं नहीं जा रहे । सारी उम्र आडिट ही करता रहा है तू कभी ब्रांच चलाई है ? चाँदनी चौक ब्रांच में मैं इतना डिपोसिट लाया था की आसपास के बैंक बंद होने की नौबत आ गई थी । बैंक पर ऐसा सिक्का जम गया कोई पाँच साल ट्रांसफ़र नहीं कर पाया । 

जैन साहब उर्फ़ नेता जी बीयर से आगे नहीं बढ़ते हैं । जब क्लर्क थे तब से नेतािगरी, राजनीति, कूटनीति से लैस हैं और जुगाड़बाज़ी से बख़ूबी परिचित हैं । अफ़सर बने तो लीडरी जारी रही । रिटायर हो गए तो रिटायर लोगों की युनीयन बना ली । मोहल्ला सभा में दख़ल रखते हैं । बोले :
- अरे भसीन ट्रांसफ़र रुकवाने तो मेरे पास ही आते थे अब क्या बड़बड़ा रहे हो । 

राणा जी तीन पेग आराम से खींच लेवे हैं कूद पड़े :
- जैन साहेब तमने तो सुसरी ऐसी ब्रांच दिलाई क़तई गुंडागर्दी वाली । पर खींच कर रख दिया एक एक को । यूँ कह दी मैंने की भई तुम गुंडे तो मैं सबसे बड़ा गुंडा । जिसका जी करे आ जावे सामणे । बस जब लो रहया तब लो शांती रही । 

गोयल साहब जो कोने में शांत बैठे रहते हैं, पेंशन के अच्छे जानकार हैं । आपके हर सवाल का जवाब जलेबी बनाकर वापिस कर देते हैं । आपने ऐसा क्यूँ किया वैसा करना था, ये शेयर किसने कहा लेने को वो लेने थे । बोले:
- अरे यार हमने तो हर तरह के अधिकारी देखें हैं अपने ज़माने में । चाहे बोस सख़्त हो या नरम, टेढ़ा हो या सीधा सबको लपेट रक्खा था । अरे यार जनरल मैनेजरों तक की पासबुक अपने बैग में रहती थी ।

अब बारी खुल्लर साहब की थी वो भी अंग्रेज़ों के ज़माने के मैनेजर हैं । मूंछ सफ़ेद हो गई है पर उनको प्यार से घुमाते रहते हैं । कहने लगे:
- कमबख्तों अच्छे टाईम पर रिटायर हो गए । मोदी के दफ़्तर में होते तो पिले रहते 9 बजे से 9 बजे तक और शायद सातों दिन । 

बहुत कठिन है डगर पनघट की

Monday, 9 June 2014

Change the archaic laws

Good that heads of government departments have been asked to review archaic laws which are still in the books & need to be scrapped or updated. That took me back to good old days.

I recall Raj Kapoor's film 'Shree 420' which was a super hit of that time. Raj Kapoor played a lovable cheat. But at that time how & why the figure 420 appeared in the name of a film was not clear to me. Subsequently after a long time I got to know that 420 meant Section 420 of Indian Penal Code 1862.

Similarly in many old films the climax would be reached in a packed noisy court room. The old wise judge entered, took seat & looked upon the people in court. Silence descended. He pronounced the death punishment - 'tazeerat-e-Hind dafaa tin sau do ke tehet saza-e-maut' ( ताज़ीराते हिंद दफ़ा 302 के तहत सज़ाए मौत ) ।  This dafaa 302 or Section 302, I later learnt, relates to Indian Penal Code 1862.

Recently Aseem Trivedi was charged with sedition for having published a cartoon on corruption which ridiculed Indian constitution & emblem. This he did during anti-corruption protests in Mumbai. Now this sedition falls under the Indian Penal Code which was enacted in 1860. And in 1870 in the chapter " Of Offences against the State"  section 124-A on sedition was introduced.

How is it that a colonial ruler & a government of a free country have same thinking 140 years apart?

On the other hand we have laws on modern issues like surrogate mothers, live-in relations, third sex classification but same-sex marriages continue to be treated as criminal act under section 377 of Indian Penal Code 1862.

Come to think of it there are several sets of laws which take us back to British Raj & make me feel bad though the laws may have been good to hold all these 150 years.

Look at the Indian Telegraph Act 1885 which relates to outdated radio, fax, telex etc. But worst part is it authorises central government to tap phones! Latest amendment came in 2006 when Secretary rank officer could authorise snooping under certain circumstances.

Law relating to alcohol is also funny. One can have driving license & one can vote on reaching 18 but for drinking better consult state government. Some states say appropriate age is 21 others say 25 & some like Gujrat say nothing doing we will never let you have alcohol.

Another example is Negotiable Instruments Act 1881. This pertains to banking matters including banking holidays. Now bank holidays are declared state-wise by state governments & at times babus there are not fully aware of this act. Some times it happens that bank branches open at ten & hurriedly close at 11 as some babu had not declared the holiday under the Act in time.

We have Indian Trusts Act whose preamble reads that it " shall come in to force on first day of March 1882".

Then there is Indian Contracts Act which came in force on first day of September 1872.

Oh how I wish that all the laws relating to business, commerce, labour, social set-up etc are reviewed & updated & that all new updated versions come in to force say by 01 January 2020.

Follow the law of the land

Thursday, 5 June 2014

तेरे मेरे पर्स में क्या है ?

बड़े दिनों से मैं ताड़ में था कि देवी जी इधर उधर हों तो ज़रा उनके पर्स की छानबीन करूँ । काफ़ी भारी भरकम है और उसके अंदर जाने क्या क्या भरा होता है । तरह तरह की छोटी बड़ी जेबें होती हैं जिनमें तरह तरह की ज़िपें लगी होती हैं । उनमें से किसी एक जेब में एक छोटा पर्स होता है जिसके हिलने से सिक्के खनकते हैं हालाँकि किस धातु के सिक्के होते हैं ये अंदाज़ा लगाना मुश्किल है । और किसी दूसरी जेब में एक और पर्स होता है जिसमें से मोबाइल निकलता है । इन दो चीज़ों की जानकारी पक्की है बाक़ी तो हाथ डालने पर पता लगेगा ।

वैसे तो सामने पड़ा है पर उसके अंदर झाँकने की हिम्मत नहीं हो रही है । मामला गंभीर है और परिणाम कुछ भी हो सकते हैं । इसलिए क्यूँ न ये काम सीबीआई को दे दिया जाय । या फिर आईएसआई को दे दिया जाए जिसको पूरी फ़ौज की बैकिंग मिली हुई है । पर वहाँ अभी सम्बन्ध सुधरे नहीं है इसलिए वहाँ मामला देना ठीक नहीं है । सीआइए कैसा रहेगा ? बड़ी तारीफ़ सुनी है की साब जासूसी में अव्वल दर्जे पर है ।

बात ये है की पक्का आदेश है की पर्स का पूरा ख़याल रखना है और कच्चा आदेश भी है की हाथ डालने की सोचना भी मत यहाँ तक की सपने में भी नहीं । 

पर इससे पहले अपना पर्स तो देख लूँ । अपने छोटे से, प्यारे से, हल्के से पर्स में क्या क्या है । इस पर्स में एक अदद 500 का नोट, एक अदद 100 का और एक अदद 10 का है । कुल जमा राशि बिल गेट्स के पर्स से तो कम लग रही है पर अपनी इतवार की बीयर तो पक्की है ।

और क्या है इसमें? एक डेबिट कार्ड है पर डेबिट करने के लिए खाते में बैलेंस शून्य दशमलव शून्य है क्यूँकि पैंशन पहली को मिलेगी और आज 25 तारीख़ है ।

दो क्रेडिट कार्ड भी हैं जिन्हें अगर पर्स से बाहर निकालो तो एलर्जी हो जाती है । पर जब तक दोनों कार्ड बटुए के अंदर रहते हैं तब तक पर्स बड़ा  प्रभावशाली लगता है । 

एक ड्राइविंग लाइसेंस है जिस में जड़ी फ़ोटो देख कर अच्छे दिन याद आ जाते हैं । 

170 -170 रूपए की दो रसीदें हैं जिसे लेकर इस इतवार को वरिष्ठ नागरिकों की मीटिंग में जाना है । और दोनों रसीदें जमा करा के लंच करना है ।

एक वरिष्ठ नागरिक होने का फ़ोटो कार्ड है । फ़ोटो में बाल भी पूरे नहीं आए और दाढ़ी ज़्यादा सफ़ेद आ गई है । कमबख़्त फ़ोटोग्राफ़र निकम्मा निकला जाने कहाँ कहाँ से पकड़ लाते हैं । 

पिछले दिनों काफ़ी पूछताछ की, इंटरनेट खंगाला और दोस्तों यारों से विचार विमर्श किया की पर्स को सदा हरा भरा रखने के क्या क्या उपाय किये जा सकते है । बेचारा जल्दी से सुनसान हो जाता है । 

एक पंडित जी ने उपाय बताया की अपनी जन्म तिथि से तीन नोटों के नम्बर मैच कर लो और पीपल के पत्ते में लपेट कर पर्स में रख कर भूल जाओ बस । अरे साब कुछ भी तो न हुआ । 25 तारीख़ आते आते फिर कड़की छा गई और पर्स सूना हो गया । पीपल का पत्ता भी सूख कर रुआँसा हो गया । उसमें लपेटे हुए नोट भी ख़र्च हो गए । 

एक और मित्र ने जाने कैसे पर्स पर भी वास्तु-शास्त्र ठोक दी । यूँ कहा की पर्स इस तरह से रक्खो की ज़्यादा से ज़्यादा देर पूर्व दिशा की ओर रहे । लो कर लो बात की अब गाड़ी चला रहे हैं पश्चिम की ओर----ख़ैर छोड़ दीजिए इस उपाय को ये तो बिलकुल बेकार लगा । 

पर्स का मुँह रिज़र्व बैंक की तरफ़ रख कर भी देख लिया पर बेकार कोई ट्रांसफ़र नहीं आया । 

एक दूसरे पंडित जी ने उपाय सुझाया की आपकी राशि का जो विशेष रंग हो उसी रंग का पर्स लो । अगर न मिले तो उस रंग का एक काग़ज़ पर्स में रक्खो फ़ुल किरपा होगी और पर्स ख़ाली नहीं रहेगा । राशि का रंग वाला काग़ज़ भी फ़ेल हो गया और दूसरे रंग भी । पर्स में रंगीन काग़ज़ ही बचे नोट उड़न छू हो गए । 

अब सारे तंत्र मंत्र बंद कर दिए हैं और पर्स अपने पुराने ढर्रे पर आ गया है । याने पहली तारीखों में तन्दरुस्त, बीच के दिनों में बीमार और महीने के अंत में कोमा में । 

                                              Right-1is wrong & left-1is right 

काली बिल्ली रस्ता काटे !

काली बिल्ली ने रास्ता काट दिया - थाम्बा ! बस थम जाओ वरना बनता काम बिगड़ने की आशंका है । आप इस अंधविश्वास को न माने पर यार दोस्त याद करा देते हैं । पूरे विश्व में काली बिल्लियों को लेकर अंधविश्वास का आतंक फैला हुआ है । पुरानी कहानियों में इस तरह की चर्चा भी थी की अगर किसी ने काली बिल्ली को मारा तो उसके बदलें में उसे सोने की बिल्ली दान देनी पड़ेगी । घनघोर अन्याय !

काले कौवे की कथा कुछ और ही है । पहली बात ये की आप अगर झूट बोले तो काट लेता है । दूसरे अगर घर की मुँडेर पर काले कागा ने कांव कांव की तो समझिए की हिन्ट दे रहा है की मेहमान टपकने वाला है । चाय नाश्ते का इंतज़ाम कर लो तुरंत । और अगर बीयर भी आ रही हो तो ख़बर कर देना । 

फिलहाल काली बिल्ली और काले कौवे को छोड़िए, सफ़ेद रंग की बात करते हैं । चीन में सफ़ेद रंग जुड़ा है मृत्यु से । मृतक के परिवार को सफ़ेद लिफ़ाफ़ों में पैसे रख कर सहायता के रूप में दिए जाते हैं । तो आप चीनी दोस्त को न तो सफ़ेद फूल भेजें और न ही सफ़ेद लिफ़ाफ़ों में पैसे या चैक दें अर्थ का अनर्थ हो जाएगा !

जर्मनी में एक मान्यता है कि कोई मृत्यु शैय्या पर काफ़ी समय से पड़ा हो तो उसके घर की छत की एक खपरैल या टाइल हटा देनी चाहिए ताकी अंतिम साँस आसानी से निकल सके ! याने सीधा सीधा स्वर्ग की ओर !

कुँवारे लड़के लड़कियों को टेबल की नुक्कड़ याने कोने के सामने नहीं बैठना चाहिए । ये मान्यता है रूस में क्यूँकि ऐसा करने से उनको पार्टनर ढूँढ़ने में दिक़्क़त आ सकती है । लो कर लो बात मतलब की कुँवारों के लिए गोल मेज़ ही ठीक रहती है जिसमें कोई कोना ही न हो !

बहुत से लोगों का मानना है कि बुरी नज़र दूर रखने में घोड़े की नाल बड़ी फ़ायदेमंद है । ये नाल मुख्य दरवज्जे पर टांगनी चाहिए । अब ये तो टेढ़ा सवाल है की नाल घोड़ी के खुर की हो या घोड़े की ! और दूसरा सवाल भी एंवे ही है - नाल का मुँह ऊपर हो या नीचे ? आपको जैसा ठीक लगे वैसा कर लेना । 

फिरंगियो को 13 का आँकड़ा बिलकुल पसंद नहीं है । यहाँ तक की ऊँची इमारत में सें 13वाँ माला ही ग़ायब कर देते हैं । या तो 12वाँ माला होगा या फिर 14वाँ । और सुनिए  होटल में 13 नम्बर का कमरा नहीं होगा, अगर सीढ़ी बनेगी ते 13 पायदान की नहीं होगी कम की या ज़्यादा की होगी वग़ैरा । और अगर किसी फ़िरंगी को 13 डालर की पेमेंट मिले तो लेगा या नहीं ?

यही िस्थती जापान में 4 की है । किसी जापानी को चार हिस्सों वाला गिफ़्ट न दें बुरा मनाएगा । वहाँ भी कई होटलों में या अस्पतालों में 4 नम्बर का कमरा नहीं मिलेगा । इसका राज़ तो यह है की '4'और 'मृत्यु' दोनों का उच्चारण जापानी भाषा में एक जैसा है !  

अंग्रेज़ों की और मान्यता है की सीढ़ी के नीचे से निकलना या नए जूते टेबल पर रखना क़िस्मत फूटने के बराबर है । दोनों ही चीज़ें अंधविश्वास कम और कामन सेंस ज़्यादा लगती हैं । सीढ़ी के नीचे से निकलते वक़्त क्या पता सीढ़ी टकला फोड़ दे इसलिए न ही जाना अच्छा है । 

वैसे ज़्यादातर शंकाएँ, अंधविश्वास और मान्यताएँ पशु पक्षियों को लेकर हैं चींटी से लेकर हाथी तक और गौरैया से लेकर मोर तक । अब दिल्ली के फ़्लैटों में रहकर ये सब बेमानी सी लगती हैं । भीड़ और गाड़ियों ने जगह घेर ली है और उनके सामने पशु पक्षी नहीं टिक पा रहे तो कहावतें और किंवदंतीयां कहाँ टिकेंगीं । 

हाँ भूत और चुडै़लें कई फ़्लैटों और मकानों में घूमती रहती हैं क्यूँ की किराया तो देना नहीं होता । और इनका लेख तो रात को ही लिखना पड़ेगा अंधेरे में और वो भी किसी खंडहर मकान या क़िले में बैठकर । सही जगह की तलाश जारी है । आपकी नज़र में हो तो बताना । 

मानो या न मानो

Tuesday, 3 June 2014

छींक दिया न !

बंद क़िस्मत का ताला खोलने के लिए या अच्छे दिन लाने के लिए दोपाये प्राणी सब कुछ करने को तैयार रहते हैं । साथ ही साथ बुरी नज़र से बचने के उपाय भी ढूँढते रहते हैं । पूरे विश्व में बहुत से टोने-टोटके, अंधविश्वास और काले जादू के फ़ार्मूले व्याप्त हैं और इनकी मान्यता  भी है कहीं कम कहीं ज़्यादा । याने मान्यता में कहीं लाल मिर्च ज़्यादा है तो कहीं नमक ।

पर यहाँ तो हरी मिर्च के साथ में निम्बू भी है दुकान के दरवज्जे पर । मानो लाला जी कह रहें हों - जा दूर हट बुरी नज़र वाले । निम्बू तेरे दाँत खट्टे करे और हरी मिर्च तेरा धुआं निकाल दे ! ख्वामखाह निम्बू और मिर्च वेस्ट कर दिए और दाम भी बढ़ा दिए । नज़र उतारने का एक और आसान तरीक़ा है काजल की एक बिंदी सुंदर बच्चों के माथे पर लगा दो बस । और अगर आपने बढ़िया सी कोठी बनाई है तो उस पर एक उल्टी हंडिया ज़रूर टाँगें जो नज़र उतारने के काम आएगी । इस तरह के नज़रबट्टू अब तो बने बनाए बाज़ार में मिल जाते हैं । 

वैसे तो ये कहते हैं की पढ़े लिखे लोग और विकसित देशों में अंधविश्वास कम होते हैं पर ख़त्म फिर भी नहीं हुए । भारत में तो शिक्षा अभी 75% के आस पास है और यहाँ तो अभी 'साइंटिफ़िक टेम्पर' और भी पीछे होगा । और फिर यहाँ बाबाओं और गुरूओं की कमी नहीं जो उजाले से अंधेरे की ओर ले जा रहे हैं और डालर कमा रहे हैं । याने समोसा और हरी चटनी दोनों का मजा ले रहे हैं । 

पर अपने देश की बात ही अलग है । चंद्र यान हो या मंगल यान उनको छोड़ने से पहले वैज्ञानिक अगर थोड़ी बहुत पूजा कर लें तो कोई हर्ज नहीं है । इस तरह की मान्यताओं को बढ़ाने में नेताओं का भी पूरा सहयोग है । चुनाव हारें या जीतें झट गुरू जी के चरणों में लेट जाते हैं । मुहूर्त निकाल कर नामांकन दाख़िल करेंगे चाहे हार ही जाएँ । 

स्पेन में मान्यता है की 31 दिसम्बर रात 12 बजे 12 अंगूर खाने से 12 महीने तक ख़ुशहाली रहेगी । आसान रास्ता है जी ख़ुशहाली लाने का । क्यूँ न आज़माया जाए ? शायद कुछ विदेशी मुद्रा ही हाथ लग जावे । 

पर दैनिक जीवन में हम सभी जाने अनजाने कुछ मान्यताओं के शिकार हैं । जैसे की मंगलवार को बाल और नाख़ून नहीं कटाने चाहिए । अब अगर इसके बावजूद आप कटिंग के लिए तैयार भी हों तो कैसे कटाएँगे नाई की दुकान तो मंगल को बंद होती है । मंगलवार को तो मुर्ग़ा भी बिन्दास घूमता रहता है उसकी कटिंग भी मना है । 

दाँए हथेली में ख़ारिश का मतलब है धन प्राप्ति और बाँए हथेली की खुजली का मतलब है कि आपका पैसा उड़न छू । अब अगर मान लें की भारत में पाँच करोड़ लोग हैं जिन्हें पहली तारीख़ को तनख़्वाह मिलती है तो वे सभी लोग पहली तारीख़ को दाएँ हथेली खुजाते मिलेंगे । पर गुरूजी का कहना है की खुजली सिर्फ़ बोनस मिलने पर होती है या छप्पड़ फटने पर । 

एक और मज़ेदार रिवाज या मान्यता है शगुन का एक रूपया । याने शगुन में 100 या 500 के बजाय 101 या 501 देना । जब एक रूपए का नोट चलता था तब तो इसकी माँग शादियों में काफ़ी हुआ करती थी । अब तो एक एक रूपए के सिक्के शगुन के लिफ़ाफ़ों पर चिपके मिलते हैं और शायद एक दो साल में यह प्रथा भी समाप्त हो जाएगी - जी हाँ एक रूपए की शगुन की नहीं !

रूस में एक मान्यता है की आपकी प्रॉपर्टी पर अगर चिड़िया बीट कर दे तो उसमें कुछ बढ़ोतरी होने वाली है ! वाह साब ख़ूब सारा  चुग्गा-दाना छत पर डाल दीजिए बस बीट ही बीट और प्रॉपर्टी ही प्रॉपर्टी !

हमारे कामवाली ने एक बार बताया था की फ़लाँ घर में नया झाड़ू इस्तेमाल करने से पहले उस पर जल छिड़क कर, सुखा कर पूज लिया जाता है । शायद इसलिए की झाड़ू इस्तेमाल करते करते कोई क़ीमती चीज़ बाहर न चली जाए । हे झाड़ू देवता ध्यान रखियो !

अररर छींक दीया न ! बस अब कथा यहीं समाप्त ।

Sunday, 1 June 2014

कुण्डली और केकड़ा


आप अपने पैदा होने का दिन और समय तय नहीं कर सकते और इसलिए आप अपनी जन्म कुण्डली भी लिख नहीं सकते । वो तो नीली छतरी वाले ने पहले ही याने पैदा होते ही छाप दी थी । पैदा होते ही रिटायर होने की तारीख़ भी तय कर दी थी और वापसी की भी । मतलब मैच फ़िक्सिंग हो चुकी थी । जो मैच में होना है सो होगा ।

पर साब कुण्डली लिखने वाला भी कलाकार है । एक तरफ तो मैच फ़िक्सिंग कर दी और दूसरी तरफ ज्ञानी लोगों को भेज दिया उपदेश देने के लिए । उपदेश के साथ साथ में ज्ञानी लोग ऊँचे गले से ज़ोरदार आवाज़ में समझाए जा रहे हैं की बेटा पुरुषार्थ कर ले, मेहनत कर ले वरना फिसड्डी रह जाएगा । 

अच्छा मज़ाक़ है न तो आप अपनी पत्री लिख सकते हो और न ही पढ़ सकते हो । आप अपनी जन्म कुण्डली पर ज़रा निगाह डालो तो कुछ समझ ही नहीं आता की क्या नक़्शा बना है । अब इसे डीकोड करने के लिए एक महात्मा चाहिए और करैंसी नोट भी चाहिए । 

सारे झमेले का मैंने तो सीधा इलाज निकाला और जन्मपत्री फाड़ कर फेंक दी । ये 40 साल पहले की बात है । पढ़ाई हो गई, नौकरी लग गई और शहनाई बजाने वाला आ गया । क़िस्मत कहो या संजोग कहो या पुरुषार्थ कहो या कुण्डली का प्रभाव कहो, अर्धांगिनी 41 साल पहले जन्मपत्री फाड़ कर फेंक चुकी थी ! पता नहीं अर्धांग और अर्धांगिनी दोनों की पत्रियों में एक ही बात कैसे लिखी गई की दोनों पत्री फाड़ देंगे । 

अब चूँकि जन्म था पहली जुलाई का तो उस दिन के आसमान में सूरज, चाँद, तारे और ग्रह जहाँ थे वहीं उनकी जगह भी फ़िक्स हो गई । समय और तिथि के अनुसार राशि की भी फ़िक्सिंग कर दी गई । राशि का नाम निकला - कर्क या कर्कट या कैंसर । बड़ा विचित्र और बेकार नाम लगता है ये कर्क या कर्कट या कैंसर । नाम तो ज़रा बढ़िया रखना चाहिए था । और इसका जो चुनाव चिन्ह या सिम्बल है वो भी उतना ही विचित्र और टेढ़ा है - केकड़ा । कमबख़्त चलता भी है तो आड़ा ितरछा सीधे सीधे नहीं चलता और छुप छुप के रहता है । 

भारत के कुछ मशहूर कैनसेरीयन या कर्कटी हैं कैटरीना कैफ़, प्रियंका चोपड़ा, नसीरुद्दीन शाह, दलाई लामा । इसके अलावा लार्ड माउंटबेटन, नेलसन मंडेला, जूलियन सीज़र, हेमिंग्वे वग़ैरा वग़ैरा । पूरी वैराइटी है सर जी और  ऐसा तो नहीं लगता की  ये लोग केकड़े की तरह आड़े तिरछे चलते होंगे !

बहरहाल आपकी राशि बारह राशियों में से कोई भी हो आप अख़बारों में छपे राशिफलों से भ्रमित न हों । पत्रे पत्रियों में कुछ नहीं रक्खा बस ये तो दिल बहलाने के क़िस्से हैं । आपका भविष्य उज्जवल होगा क्यूँकि आप मेहनत मशक़्क़त करते हो । 

गीता दत्त भी तो यही सलाह देती है :

तदबीर से बिगड़ी हुई तक़दीर बना ले,
अपने पे भरोसा है तो दाव लगा ले ।
( )